Friday, December 03, 2010

'wow! wonderful story'


तुम वो बेनामी हो, जो मेरी कहानियाँ समझ में नहीं आने पे भी कहती हो, 'wow! wonderful story' | तुम सही में नहीं जानती हो कि तुमने मेरी कहानियों का अंत किस हद तक 'wonderful' कर दिया है | मेरे जन्मदिन पर तुमने पहली बार लिखने की कोशिश की, मुझे बर्थडे सरप्राइज़ देने के लिए | वैसे तुमने एक दिन पहले कहा कि हम अब बात नहीं करेंगे | मुझे इतना पता है कि तुम मुझसे कुछ न कुछ कहे बिना नहीं रह सकती, इसलिए मन ही मन हँसते हुए मैंने हाँ कह दी | रोज़, सुबह 8 बजकर 30 मिनट पे तुम्हारा कॉल आता है, और तुम पूरे पंद्रह मिनट परेशान करती हो | आज तुम्हारा कॉल नहीं आया, और तुम मुझे 11 बजे तक परेशान करती रही | सबसे पहले विश करने की ये होड़ तुम्हारी, आखिर किससे थी | मुझे तो वैसे भी कोई उम्मीद नहीं थी कि तुम्हें कोई प्रतिद्वंदी मिलेगा | अपने पूरे परिवार को जगाके मुझे बर्थडे विश करवाना, तुम्हारे पापा जरूर तुम्हारे लक्षण देखके 'हाथ से निकल गयी लड़की' कह रहे होंगे | दूर दूर रहते हैं, कैम में देखते ही, एक दूसरे को देखकर जी भर के हँसते हैं | मेरी पिछली तीन गर्ल फ्रेंड्स के एवज तीन बॉय फ्रेंड्स बता के 'हिसाब किताब बराबर' कहना, क्या मेरा खुद का पागलपन कम था जो तुम भी ?


The birds were singing but not melodious as now...
The poets were reciting poem but not meaningful as now...
Rainbow was always colourful but not bright as now...
Breeze were blowing but couldn't touch the heart as like now...
Flowers were fruitful, but blossom was not as now...
The world was beautiful but not as beautiful as  now....
It’s you who changed every view of my life...
It’s your Birthday,The day when God sent you to my life...
to give a beautiful meaning of my life...
HAPPY BIRTHDAY TO YOU...